क्यों बढे 7वी बार तेल की दाम सिर्फ 8 दिन में:

    0
    129
    petrol prices increases

    Petrol Prices Icreases: 5% कच्चे तेल की कीमत गिरी; फिर भी डीजल 70 पैसे और पेट्रोल 80 पैसे महंगा।मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) में सोमवार को भी कच्चे तेल के दाम 5.20% या 450 रुपए/ बैरल गिरकर 8,120 रुपए/ बैरल हो गए। इसके बावजूद देश में पिछले 8 दिन से पेट्रोल-डीजल की कीमत बढ़नी जारी है। मंगलवार को भी 8 दिन में 7वीं बार तेल के दाम बढ़ाए गए। पेट्रोल की कीमत(petrol prices) में 80 पैसे और डीजल में 70 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी गई है। 5 महीने बाद दिल्ली में पेट्रोल फिर 100 रुपए लीटर के पार पहुंच गया है।

     20 रुपए तक दाम बढ़ सकते हैं:(petrol prices)

    • ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के नुकसान की भरपाई के लिए पेट्रोल-डीजल की कीमत में 15 से 20 रुपए का इजाफा करना होगा।
    • इस लिहाज के कारन हो सकती है पेट्रोल-डीजल की कीमत में अभी और 18 रुपए की बढ़ोतरी।

    PHDCCI: GST के तहत लाया जाए पेट्रोल-डीजल:

    PHDCCI urges govt to focus on demand creation in Budget - OrissaPOST

    • PHD चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष प्रदीप मुल्तानी ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों को GST के तहत लाने से बहुत मदद मिलेगी।
    • यह अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा होगा।

    सरकार ने वसूला 3.31 लाख करोड़ का टैक्स 9 महीनो में:

    • केंद्र सरकार ने अप्रैल से दिसंबर (2021) तक पेट्रोल-डीजल समेत पेट्रोलियम उत्पादों पर 3.31 लाख करोड़ रुपए टैक्स से वसूले हैं।
    • यह खुलासा एक RTI से हुआ है। एक RTI के जवाब में सरकार ने बताया कि पेट्रोलियम पदार्थों के आयात पर 37,653.14 करोड़ रुपए का सीमा शुल्क वसूला गया, जबकि केंद्रीय उत्पाद शुल्क के रूप में 2,93,967.93 करोड़ रुपए सरकारी खजाने में जमा हुए हैं।
    • इधर, एक्साइज ड्यूटी की बात करें, तो केंद्र सरकार अब तक 13 बार ड्यूटी में इजाफा कर चुकी है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here