प्रधानमंत्री Narender Modi पहुंचे पश्चिमबंगाल

0
160
PM-Modi-At-Belur-Math

भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज स्‍वामी विवेकानंद के जन्‍मदिन राष्‍ट्रीय युवा दिवस पर कोलकाता के बेलूर मठ पहुंचे उन्होंने फूल माला अर्पण कर श्रद्धांजलि दी और कहा की ये स्थान सब के लिए तीर्थयात्रा की तरह से है | उसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी जी ने जान सभा का सम्बोधित किया जिस में ममता बनर्जी गायब रही |

किया जनसभा को सम्बोधित

पश्चिम बंगाल में चल रहे विरोध प्रदर्शनों को लेकर कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र जी ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) को लेकर अपने विचार सांझे किये | कोलकाता पोर्ट ट्रस्‍ट को आज 150वां दिवस वाले कार्यक्रम में बधाई दी और आर्थिक तंगी को दूर करने की योजना कोलकत्ता में कुछ योजना का अस्वासन दिया | ममता बनर्जी ने इस में हिस्‍सा नहीं लिया। सूत्रों के अनुसार कि मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी ने पीएम मोदी के साथ पश्चिम बंगाल में दोबारा मंच साझा करने से परहेज किया, क्योंकि लेफ्ट सीएए को लेकर काफी चर्चा हो रही है ।

न्‍योता भेजने पर भी नहीं आयी ममता बनर्जी

आज कोलकाता के नेताजी इंडोर स्‍टेडियम में आयोजित जनसभा कार्यक्रम के लिए ममता बनर्जी को न्‍योता भेजा गया था पर CAA के आक्रामक प्रभाव के चलते ममता बनर्जी स्टेज पर नहीं आई क्योंकि शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर उनसे नागरिकता कानून को वापस लेने की अपील की थी। इस मुलाकात पर ममता बनर्जी को भारी विरोध का सामना करना पड़ रहा था। लेफ्ट संगठनों ने ममता की मोदी से मेटिंग का विरोध जताते हुए उन पर CAA के खिलाफ लड़ाई को कमजोर करने का आरोप लगाया था।

PM-Modi-Meets-Mamata-Banerjee

दीदी ने पेश की सफाई

ममता बनर्जी द्वारा प्रधानमंत्री से हुई मुलाकात की सफाई देते हुए स्टेज से लोगो को शांत रहने के लिए कहा और कहा कि, ‘मैं बतौर मुख्यमंत्री के तौर पर ही पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने गई थी। यह एक नैतिक मुलाकात थी। उसने लोगो को शांत करते हुए कहा कि मैंने CAA को वापिस लेने के लिए ही मेटिंग कि थी और मुझे एक भी ऐसा CM बताएं, जिसने पीएम मोदी के सामने CAA का विरोध ना किया हो।’ छात्रों से ममता ने कहा, ‘सीएए के खिलाफ हम पहले दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं। हम सबका मसला एक ही है, इसलिए इसको मुद्दे से मत भटकाइए। मैं आप सभी से लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने की अपील करती हूं।’

वामपंथी छात्र संगठनों का विरोध

वामपंथी छात्र संगठनों ने मुलाकात का विरोध जताते हुए कहा कि जब हमारा संगठन जब से CAA बिल पास हुआ है तब से हम पुरे राज्य में विरोध कर रहे है तो सीएम को प्रधानमंत्री से मिलने कि क्या जरुरत थी ? लेफ्ट स्टूडेंट्स ने टीएमसी के धरना स्थल के साथ स्थान पर ही प्रदर्शन किया था।

 

लेफ्ट पार्टियों से जुड़े छात्रों के संगठन ग्रुप ने प्रदर्शन वाली जगह पर पहुंचकर ममता बनर्जी के खिलाफ ‘आजादी’, ‘छी-छी’, ‘शेम-शेम’ के नारे लगाए। छात्रों ने नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में जारी लड़ाई को कमजोर करने के लिए ममता से जवाब मांगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here