“कुमारस्वामी” नही रहे कर्नाटक के ‘स्वामी’

0
98

लोकसभा चुनावों के बाद बीजेपी की ऐसी जबरदस्त लहर छाई हुई है। जिससे देश का बच्चा-बच्चा परिचित है । मोदी की लहर ने सारी पार्टियों को पीछे छोड़ते हुए देश में एक पार्टी एक सरकार बनाने की ठान ली है। कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की आपसी खींचातान के कारण बीजेपी का पलड़ा भारी होता जा रहा है जिसके कारण आए दिन शीर्ष नेता इस्तीफा दिए रहे हैं | कर्नाटक सरकार का ध्वस्त होना भी इसका बड़ा कारण है | लोकसभा चुनावों के बाद कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन सरकार ज्यादा समय अपना रुतबा नहीं बना पाई कांग्रेस की में लगातार खींचतान चल रही है और महज 14 महीनों में ही कर्नाटक सरकार ध्वस्त हो गई।

Kumaraswami in Sad Mood

99 के फेर में फंसी कर्नाटक सरकार

पिछले दिनों कांग्रेस के और जेडीएस के विधायको ने एक एक करके इस्तीफा देना शुरू किया। हालत यह हो गई बीजेपी को मिली 105 सीटों से भी मौजूदा गठबंधन सरकार नीचे आ गई। कर्नाटक में कुल विधायक की संख्या 204 है जिसमें से बीजेपी के पास 105 विधायक हैं मतलब यह है कि अब कर्नाटक में फिर से कमल खिलना करीब-करीब तय है। लगातार चल रहे इस्तीफों के बाद कर्नाटक राजसभा में विश्वास पास वोट करवाए गए | इसमें भी कुमारस्वामी सरकार के पक्ष में 99 वोट मिले जबकि बीजेपी ने 105 मतों को हासिल किया जिसकी वजह से कुमार स्वामी ने कल अपना इस्तीफा कर्नाटक के राज्यपाल को सौंप दिया है| अब बीजेपी सरकार बनाने का दावा पेश करेगी। पूर्व मंत्री येदुरप्पा इसके लिए कर्नाटक राज्यपाल से मिलेंगे और ऐसे भी संकेत मिल रहे हैं कि शुक्रवार को येदुरप्पा शपथ लेंगे|

Karnataka Assembly

कांग्रेस के आरोप

उधर कांग्रेस के शीर्ष नेताओं का सीधे तौर पर ये आरोप है कि बीजेपी सरकार सांसदों को खरीद रही है यह लोकतंत्र की हार और लालच की जीत हुई है। इसके लिए कांग्रेस कार्यकर्ता देशभर में विरोध जताएंगे । राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी इसकी आलोचना करते हुए कहा है कि जो नेता कल तक बीजेपी को गुंडों की सरकार कहते थे उन्हें आज बीजेपी ने उन्हें गले से लगाकर ऊँचे मंत्री पद देकर अपनी तरफ करके खरीद लिया है|

बेंगलुरु में अगले 24 घंटे तक धारा 144 लागू कर दी गई है जिसमें सभी पब और शराब की दुकानें बंद रहेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here