कोरोना से जंग जीतने के लिए 3 मई तक लॉकडाउन

0
439
PM Modi Addressed Indian

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कोरोना वायरस के चलते पांचवी बार राष्ट्र को संबोधित किया। सबसे पहले उन्होंने समस्त देशवासियों को धन्यवाद दिया कि सभी ने Lockdown में अपनी भागीदारी निभाई। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से निपटने के लिए हर संभव प्रयास के बावजूद भी इसमें निरंतर बढ़त देखी जा रही है जिसके चलते प्रधानमंत्री जी ने इसकी अवधि को बढ़ाते हुए पूरे देश में 3 मई तक पूर्णबन्दी Lockdown का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि पूर्णबंदी का देश को अत्यधिक फायदा मिला है जिसका अन्य देशो की तुलना में भारत देश कोरोना को पछाड़ने में काफी हद तक सफल हुआ है। अपने आप में दुनिया के बड़े-बड़े समर्थवान देशों की तुलना में भारत की स्थिति काफी हद तक संभली हुई है।

गतिविधियों के आधार पर दी जा सकेगी छूट

प्रधानमंत्री ने संबोधित करते हुए कहा कि 20 अप्रैल तक हर राज्य के जिलो की कोरोना की हर गतिविधि को बारीकी से निरक्षण करके उसमें कुछ छूट का प्रवधान दिया जा सकता है। जिस जिले में कोरोना महामारी की स्थिति संभली होगी उसमे राज्य के मुख्यमंत्री और मंत्रिमंडल की सलाह से उस क्षेत्र में लॉकडाउन में रियायत दी जा सकती है। उसके बाद स्थिति पर नजर रखी जायेगी अगर नियम टूटे तो परमिशन वापिस भी ली जा सकती है।

सप्तपदी को अपनाने की अपील की

मोदी जी ने अपने संबोधन में देशवासियों को कोरोना से बचाव के लिए सात नियम अपनाने को कहा जिससे कोरोना से बचाव हो सकता है। सबसे पहले उन्होंने घर के बुजुर्गों का खास ध्यान रखने की अपील की तांकि वो कोरोना जैसे महामारी का शिकार ना बन सकें। फिर उन्होनें एक दूसरे से दूरी बनाए रखने का आहवान किया और घर मे बने फेसमास्क लगाने का अनिवार्य रूप से पालन करें।

आयूष मंत्रालय द्वारा बताए हुए निर्देशो का नियमित रूप से पालन करने को कहां जिस से हमारी इम्युनिटी मजबूत हो। फिर उन्होंने आरोग्य सेतु मोबाइल एप का अपने फ़ोन में इंस्टाल करने का आग्रह किया इस एप से कोरोना के संक्रमण से रोकने में मदद मिलेगी।जितना हो सके गरीब परिवारों की मदद करें। उनके रोजमर्रा के जीवन की जरूरत को पूरा करने में भी मदद करें।

बड़े व्यपारियो से और छोटी बड़ी कंपनियों से कहाँ की वे अपने कंपनियों के कर्मचारियों के प्रति संवेदना रखे ऐसी स्थिति में उन्हें नोकरी से ना निकाले। कोरोना से लड़ रहे यौद्धा डॉक्टर, नर्स, पुलिस प्रशासन, सफाई कर्मचारी इन सब यौद्धा की हौसला अफजाई करें मुश्किल को घड़ी में ये ही देश को बाहर निकाल सकते है।

देश मे पहली बार ऐसी स्थिति बनी है कि लगातार 43 दिन सरकारी वाहन ट्रैनें, बसें, हवाई उड़ाने बन्द रही हों।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here