वेलेंटाइन डे मनाने के पीछे क्या है इतिहास। क्यों 14 फरवरी को ही प्रेमी करना चाहते हैं अपने प्रेम का इज़हार।

0
225
Valentines Day

नए साल का पहला महीना यानी जनवरी जहां शुभकामनाओं से भरा होता है, वहीं दूसरा महीना यानी फरवरी प्रेमी जोड़ों के लिए बहुत खास होता है। इस महीने की 14 तारीख का इंतज़ार सभी प्रेमी पूरा वर्ष करते हैं। दिल तो दिल बाजारों की रौनक भी देखने लायक होती है। पार्क, रेस्टोरेंट, होटल , पिकनिक स्पॉट हर जगह प्रेम बरसता दिखाई देता है। 14 फरवरी को विश्वभर में वेलेंटाइन डे के रूप में मनाया जाता है। पहला यह दिवस पश्चिमी देशों में ही मनाया जाता था लेकिन आज विश्व के हर देश में इसे बहुत उमंग से मनाया जाता है। अगर भारत को बात करें, तो यहां तो वैसे भी सभी पश्चिमी सभ्यता के रंग में रंगे हैं। यहां के प्रेमी युगल भी अपने तरीके से इस दिन को मनाते हैं। अब हम आपको बताने जा रहे हैं इस खास दिन का इतिहास

वेलेंटाइन डे का इतिहास

वेलेंटाइन डे के पीछे भी हर खास दिन की तरह एक कहानी जुड़ी है। कहते हैं कि तीसरी सदी के दौरान रोम में क्लॉडियस नाम का राजा राज किया करता था। वह बहुत ही कट्टर और जिद्दी था। उसे लगता था कि शादी करने से पुरुषों की शक्ति कम हो जाती है और वे दिमागी तौर पर भी कमजोर हो जाते हैं। इसी सनक के चलते उसने पूरे राज्य में यह ऐलान कर दिया कि उनके जितने भी अधिकारी या सैनिक हैं वे शादी नहीं करेंगे। उसके इस आदेश के कारण हर ओर खलबली मच गई मगर राजा के आदेश की अवहेलना करने का साहस कोई भी नहीं जुटा पा रहा था। उस समय सन्त वेलेंटाइन ने सभी लोगों का साथ देते हुए राजा का विरोध किया। सन्त वेलेंटाइन ने लोगों को इस तानाशाही के खिलाफ एकजुट किया तथा उन्हें शादी करने के लिए प्रेरित किया। यही नहीं उन्होंने अपने हाथों से सैनिकों और अधिकारियों की शादियां करवाई। जब क्लॉडियस को इस बात का पता चला तो उसके क्रोध की कोई सीमा ना रही और उसने 14 फरवरी 269 के दिन सन्त वेलेंटाइन को फांसी पर लटकाने का हुक्म सुना दिया। उनकी मौत के बाद से हर साल 14 फरवरी वेलेंटाइन डे के नाम मनाया जाने लगा। महत्त्व- वैसे तो प्यार एक ऐसी भावना है जिसका महत्त्व किसी भी दिन कम नहीं होता लेकिन लोग एक दूसरे की देखादेखी इस विशेष दिन को प्रेम का इज़हार करने के लिए उपयुक्त समझते हैं। यह दिन केवल प्रेमियों के लिए ही नहीं बल्कि उन सभी लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो एक दूसरे से भावनात्मक रुप से जुड़े हैं।

कैसे मनाते हैं लोग इस खास दिन को

प्रेम का इज़हार करने के लिए लाल गुलाब को इसका प्रतीक माना जाता है। प्रेमियों का मानना है कि यदि प्रेम का इज़हार लाल गुलाब से किया जाए तो सामने वाला उसे अवश्य कबूल करता है। लेकिन आज वेलेंटाइन डे केवल लाल गुलाब तक ही सीमित नहीं रहा । अब तो इस दिन को यादगार बनाने के लिए लोग पानी की तरह पैसा बहाने से भी गुरेज़ नहीं करते। चॉकलेट्स, केक गिफ्ट और भी ना जाने कितनी ही चीज़ों से लोग अपने प्रेम का इज़हार करते हैं। कई दिन पहले से इसकी तैयारियां शुरू हो जाती हैं। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में गुजरता हर दिन उम्र को कम करता जा रहा है ऐसे में एक ऐसा प्यार भरा दिन आपको उत्साह से भर देता है जब आप अपने लिए नहीं बल्कि किसी अपने के लिए कुछ पल निकालते हैं।अगर इस बार आप भी अपने प्रेमी के लिए कुछ खास करना चाहते हैं तो कुछ ऐसा जरूर कीजिये कि उसके चेहरे पर मुस्कान खिल उठे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here