सुचेता ने किया भारत का नाम रोशन

0
158
Sucheta Satish

भारत का नाम रोशन करने वाले केवल भारत में ही बल्कि बाहर के देशों में भी बसते है। इसका एक उदाहरण है सुचेता सतीश,जो कि दुबई में रहने वाली एक भारतीय मूल लड़की है। इस प्रतिभावान लड़की ने शुक्रवार को ‘ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवार्डस 2020’ में जीत हासिल की है। इस लोकप्रिय लड़की की खासियत है कि वह 120 भाषाओं में गाना गाने का दम रखती है। सुचेता सतीश के पिता टी. सी. सतीश ने बातचीत के दौरान बताया कि उसकी पुत्री सुचेता सतीश, जिसकी उम्र महज 13 वर्ष है,को दुबई इंडियन हाईस्कूल की कोकिला के रूप में जाना जाता है।उसने गायन श्रेणी में पहले दर्जे की जीत हासिल की है।

ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवॉर्ड से होगी सम्मानित

सुचेता सतीश को उनकी गाने की कला को देखते हुए ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवॉर्ड से नवाजा जाएगा जो कि अपने आप में बेमिसाल है। सुचेता ने कहा कि ये पुरस्कार उसके गुरुजन,उसके देश एवं उसके माता पिता को समर्पित है। सुचेता ने कहा कि आज मैं जो कुछ भी हूं,सब इन्हीं की बदौलत हूं।
अपनी जीत के बारे में बात करते हुए सुचेता ने कहा, ‘मुझे एक संगीत कार्यक्रम के दौरान ज्यादातर भाषाओं में गाने पर अपने दो विश्व रिकॉर्ड बनाने पर पुरस्कार के लिए चुना गया है। यह एक बच्चे द्वारा सबसे लंबे समय तक लाइव गायन था, जो मैंने दो साल पहले दुबई में भारतीय वाणिज्य दूतावास के सभागार में 6.15 घंटे में 102 भाषाओं में गाया। सुचेता वर्तमान में 120 भाषाओं में गा सकती हैं।

 

क्या है ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवॉर्ड

ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवार्ड विभिन्न श्रेणियों जैसे नृत्य, संगीत, कला, लेखन, अभिनय, मॉडलिंग, विज्ञान, नवाचार, खेल आदि में बच्चों की प्रतिभा को सामने लाने का एक मंच है। यह पुरस्कार डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम इंटरनेशनल फाउंडेशन और ऑस्कर पुरस्कार विजेता संगीत निर्माता ए.आर. रहमान द्वारा समर्थित है। सुचेता ने कहा, ‘यह पुरस्कार समारोह शुक्रवार को नई दिल्ली में है,जब दुनिया भर में 100 वैश्विक बाल प्रतिभाओं को विभिन्न श्रेणियों में सम्मानित किया जाएगा। मैं नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी से मिलने के लिए विशेष रूप से उत्साहित हूं,जो कार्यक्रम के मुख्य अतिथि हैं।

Sucheta Satish

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here